हरायपूरा शाजापुर मे मीडिया जगत के जाने माने वरिष्ठ पत्रकार प्रोफेसर कमल दीक्षित जी का विशेष राजयोग के अपने अनुभवों का क्लास आयोजित हुआ

Spread the love

1

प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय शिव वरदानी धाम    हरायपूरा शाजापुर मे मीडिया जगत के जाने माने वरिष्ठ पत्रकार प्रोफेसर कमल दीक्षित जी का विशेष राजयोग के अपने अनुभवों का क्लास आयोजित हुआ  जिसमे सर्व प्रथम स्थानीय शाखा प्रभारी ब्रह्मा कुमारी प्रतिभा बहन जी ने शब्दो के द्बारा दीक्षित जी का अभिवादन किया सभा मे उपस्थित गणमान्य जन की और से प्रोफेसर डी डी वर्यानी जी ने गुलदस्ता भेंट कर दीक्षित जी स्वागत किया मंच संचालन बी के दीपक भाई ने किया
      प्रोफेसर कमल दीक्षित जी का परिचय देते मंच संचालक ब्रह्मा कुमार दीपक भाई ने बताया की…
 प्रोफेसर कमल दीक्षित
50 वर्षो से पत्रकारिता में वर्तमान: सम्पादक राजीखुशी आद्यात्म पत्रिका
सम्पादक मूल्यानुगत मीडिया पूर्व स्थानीय सम्पादक राज0 पत्रिका जयपुर
सम्पादक नवभारत इंदौर निदेशक भास्कर एकेडेमी जयपुर-भोपाल
प्रोफेसर पत्रकारिता विभाग माखनलाल चतुर्वेदी तष्ट्रीय पत्रकारिता एवम् संचार विश्वविद्यालय भोपाल प्राचार्य कर्मवीर विद्यापीठ खंडवा आदि
         दीक्षित जी ने राजयोग पर अपने वक्तव्य सुनाते हुये बताया की राजयोग एक वह सरल प्रक्रिया हॆ जो हर मनुष्य घर परिवार मे रहते हुये अपना सकता हॆ वास्तव मे राजयोग जीवन जीने की कला ही सीखलाता हॆ राजयोग से हम स्वयं के सत्य स्वरूप को जान कर उस परमपिता परमात्मा शिव से अव्यक्त मिलन मना सकते हॆ आत्मा और परमात्मा के इस मिलन को ही राजयोग कहा जाता मनुष्य जीवन मे कई प्रकार की कठनाईया आती हॆ घर परिवार बिजनेस नौकरी मे कई  बार हम तनाव ग्रस्थ हो जाते हॆ और मनुष्य संयम खो देता हॆ किंतु एक राजयोगी हर परिस्तिथि मे अपने पर संयम बनाये रखता हॆ मेने अपने जीवन मे ऐसे कई उदाहरण  देखे हॆ जिन्होने हर चुनौती का सामना करते हुये जीवन को खुशहाल बनाये रखा और मे स्वयम  भी 37 वर्षों से ब्रह्मा कुमारी संस्थान से जुड़ कर राजयोगी बन खुश रहता हूँ और खुशी बाँटने का कार्य करता  हूँ आज मनुष्य पेसौ से साधन तो खरीद लेते हॆ किंतु खुशी नही खरीद सकते इसीलिये कोई भी मनुष्य मात्र चाहे कितना भी धनवान क्यों न हो किंतु यदि उसके जीवन मे खुशी नही तो ऐसा जीवन ही व्यर्थ हॆ  राजयोग उत्साह पूर्ण उमंगों से भरा हुआ जीवन जीना सीखलाता हॆ ब्रह्मा कुमार कुमारी भाई बहनों ने अपना सारा जीवन जन जन को खुश.खुशी. शांति के लिये समर्पित कर दिया हॆ मे इन्हे भी धन्यवाद देता हूँ क्यों की मुझे भी इन्ही के माध्यम से राजयोगी बन पाया हूँ.
        कार्यक्रम के अंत मे प्रोफेसर कमल दीक्षित जी का आभार व कार्यक्रम मे लाभ लेने वाले गणमान्य नागरिकों का आभार डा  जी आर अम्बावतीया जी ने माना.